बिजली की कमी 15 दिन में पूरी होगी: पीयूष गोयल सेबी से बचने के लिए इत्तेहाद-जेट शर्तों में बदलाव को सहमत एक्जिट पोल आने पर सबकी नजर शेयर बाजार पर भारत को दक्षिण चीन सागर तनाव पर चिंता की जरूरत नहीं : चीन मानवाधिकार कार्यकर्ता और वकील मुकुल सिन्हा का निधन
करण बिलिमोरिया बर्मिंघम विश्वविद्यालय के कुलाधिपति बने भारतीय मूल की इंदिरा बनीं मैसाचूसेटस में जज अमेरिका के इरविंग शहर में लगेगी महात्मा गांधी की प्रतिमा भारतीय-अमेरिकी डॉक्टर को उत्कृष्टता के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार मोदी सरकार से भी अमेरिका के रहेंगे नजदीकी संबंध

मुकुल राय बने नए रेल मंत्री


नई दिल्ली !    कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ लेने वाले तृणमूल कांग्रेस के सांसद मुकुल राय को 20 मार्च 2012 मंगलवार को रेल मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई। राय को यह कार्यभार उनके पार्टी के सहयोगी एवं रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी के इस्तीफे के बाद सौंपा गया है। राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक संक्षिप्त समारोह में राष्ट्रपति प्रतिभा पाटील ने पूर्व जहाजरानी राज्य मंत्री राय को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। प्रधानमंत्री की सलाह पर पाटील ने राय को रेल विभाग का आवंटन करने का निर्देश दिया।
प्रधानमंत्री ने राज्यसभा सदस्यों को नए कैबिनेट मंत्री के बारे में परिचित कराया।
पिछले सप्ताह पेश रेल बजट में यात्री किराए में वृद्धि से नाराज संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की सहयोगी तृणमूल कांग्रेस ने त्रिवेदी के इस्तीफे की मांग की थी। तृणमूल की अध्यक्ष ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिलकर त्रिवेदी की जगह मुकुल राय को रेल मंत्री बनाने को कहा था।
शपथ ग्रहण समारोह में उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी व कई केंद्रीय मंत्री मौजूद थे। त्रिवेदी ने सोमवार को ही अपना इस्तीफा दे दिया था। वहीं, तृणमूल सांसद सुदीप बंदोपाध्याय ने कहा कि यात्री किराए पर फैसला लेना नए रेल मंत्री का विशेषाधिकार है।
राय ने जहां अपने नए विभाग की जिम्मेदारी लेने की तैयारी की ।
राज्यसभा में रेल बजट पर चर्चा की शुरुआत करते हुए भाजपा नेता बलबीर पुंज ने कहा कि त्रिवेदी के इस्तीफे के पीछे कोई रहस्य है।
उन्होंने कहा, “रेलवे जो देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है, उसे गठबंधन की राजनीति के चलते संकट में नहीं पड़ना चाहिए।”
पुंज ने कहा, “क्या यह सही नहीं है कि त्रिवेदी ने जो रेल बजट पेश किया, उस पर प्रधानमंत्री एवं केंद्रीय वित्त मंत्री की सहमति नहीं थी? क्या इन दोनों पर सवाल नहीं उठाया जाना चाहिए।”

हिन्दी में राष्ट्रीय - अंतरराष्ट्रीय समाचार, लेख, भाषा - साहित्य एवं प्रवासी दुनिया से नि:शुल्क जुड़ाव के लिए
अपना ईमेल यहाँ भरें :

Leave a Reply