हिंद-अफगान दोस्ती का प्रतीक बना काबुल में विशाल ध्वज कश्मीर में अब भी 4 लाख से अधिक फंसे, जलस्तर घटा इस माह सरकार शुरू कर सकती है भविष्य निधि खाता पोर्टेबिलिटी बिजली की कमी 15 दिन में पूरी होगी: पीयूष गोयल सेबी से बचने के लिए इत्तेहाद-जेट शर्तों में बदलाव को सहमत
मोदी के स्वागत समारोह की मेजबानी करेंगी मिस अमेरिका भारतीय मूल के गोयल को अमेरिका में मिला प्रमुख प्रशासनिक पद भारतीय मूल के गणितज्ञ अंतरराष्ट्रीय विज्ञान परिषद के अध्यक्ष निर्वाचित एक और भारतीय का उपन्यास बुकर पुरस्कार की सूची में शामिल करण बिलिमोरिया बर्मिंघम विश्वविद्यालय के कुलाधिपति बने

लघुकथा- ममत्व


माँ परेशान थी कि उसका आपरेशन सफल नहीं हुआ ? मुझे कुछ हो गया तो मेरे बच्चों का क्या होगा ?

बेटा मेरे बिना सो नहीं पता है। बेटी खाना भी नही बना पाती। इसी चिंता में वह आपरेशन थियेटर नही जा रही थी। डांक्टर ने बहुत समझाया फिर भी वह बच्चों को गोदी से अलग नही कर पा रही थी।

माँ आपरेशन थियेटर की ओर बढ़ी, बच्चे कमरा संख्य़ा 203 की ओर। उधर माँ बच्चों की चिंता के साथ बेहोश होती गई, इधर बच्चे कमरे में लगी टी.वी .के सामने डट गए। डांक्टर आपरेशन में व्यस्त, बच्चे टी.वी. में मस्त। बच्चों को पता ही नही चला कि आंपरेशन कब हो गया। माँ ने होश में आते ही बच्चों की ओर ले चलने को कहा। कमरे में पहुँचने पर माँ ने बच्चों को अपने पास बुलाया।  बच्चों ने कहा-मम्मी प्लीज, थोड़ी देर …।माँ बच्चों की ओर निहार रही थी बच्चे टी.वी की ओर।

(लेखक) डां.अशोक.अज्ञानी

हिन्दी में राष्ट्रीय - अंतरराष्ट्रीय समाचार, लेख, भाषा - साहित्य एवं प्रवासी दुनिया से नि:शुल्क जुड़ाव के लिए
अपना ईमेल यहाँ भरें :

Leave a Reply