मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

हमारे बारे में


प्रवासी  मीडिया समूह – प्रवासी टुडे जैसी पत्रिकाओं व प्रवासी दुनिया.काम व प्रवासी टुडे.काम जैसी वेबसाइटों के माध्यम से व प्रवासी फिल्म उत्सव के आयोजन व अंतर्राष्ट्रीय हिंदी उत्सवो में सहयोग के माध्यम से प्रवासी मीडिया समूह प्रवासियों को भारत से जोड़ने के प्रयास में अपनी भूमिका का निर्वाह कर रहा है। जून 2005 में ब्रिटेन के हाऊस आफ लार्डस में प्रवासी टुडे के प्रकाशन के साथ  इस समूह की स्थापना डा पदमेश गुप्त, अनिल जोशी, दिव्या माथुर, डा सत्येन्द्र श्रीवास्तव, सरोज शर्मा, तितिक्षा शाह, के.के श्रीवास्तव, नरेश भारतीय जैसे प्रमुख प्रवासियों के सहयोग से की गई थी। प्रवासी मीडिया समूह ने अक्षरम के साथ मिलकर अंतर्राष्ट्रीय हिंदी उत्सवों के आयोजन और हिंदी ज्ञान प्रतियोगिता और अतर्राष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रमों  के माध्यम से वैश्विक स्तर पर हिदीं को प्रतिष्टित करने का कार्य किया । प्रवासी फिल्म उत्सव, 2010 के आयोजन से इसकी प्रतिष्टा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर एक बड़ी ऊंचाइ पर चली गई । प्रवासी फिल्म उत्सव प्रवासियों को भारत से जोड़ने के कार्य में एक मील का पत्थर बना और इस कार्यक्रम में मीरा नायर, दीपा मेहता, शर्मिला टैगोर, सोहा अली , प्रकाश झा, सतीश कौशिक, बासु चटर्जी, राहुल रवेल, मनोज बाजपेयी जैसे प्रतिष्ठित फिल्मकारों ने भाग लिया। वैश्वीकरण के इस दौर में प्रवासी भारतीयों को जोड़ने के विशाल अभियान में इंटरनेट के माध्यम से प्रवासी टुडे.काम व प्रवासी दुनिया.काम की स्थापना से वैश्विक स्तर लाखों की संख्या में प्रवासी जुड़े और देखते –देखते यह दोनों वेबसाइट अपनी-अपनी भाषाओं में शीर्षस्थ वेबसाइट बन गई जिन्हें इस समय लगभग 175 देशों को 6600 शहरों के  10000 प्रवासी रोज पढ़ते हैं। पत्रिका , वेबसाइट और कार्यक्रमों के माध्यम से प्रवासी मीडिया समूह विश्व भर के प्रवासियों को भारत से जोड़ने का सबसे बड़ा मंच बन गया है।