मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

अक्षय तृतीया पर पूजा-अर्चना का दौर, होगा करोड़ों का कारोबार


12 मई 2013, अक्षय तृतीया – उत्तर प्रदेश में अक्षय तृतीया के मौके पर जहां करोड़ों का काराबोर होने का अनुमान है, वहीं दूसरी ओर ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक इतवार को रोहिणी नक्षत्र है, जो विवाह के लिए सवरेत्तम तिथि मानी जाती है इसलिए आज के दिन शहर में सैकड़ों शादियां भी सम्पन्न होंगी। अक्षय तृतीया के मौके पर अक्षय वरदान प्राप्त करने के लिए इतवार  को मंदिरों में सुबह से ही भक्तों की भारी भीड़ देखी जा रही है। राजधानी में चौपटिया के रानीकटरा में 100 साल पुराने चारों धाम मंदिर के कपाट सुबह 10 बजे से ही भक्तों के लिए खोल दिए गए हैं।

मंदिर प्रबंधन के सदस्य आशीष अग्रवाल ने बताया कि मंदिर की पहली मंजिल पर रामेश्वरम, दूसरी मंजिल पर जगन्नाथ, तीसरे पर द्वारकाधीश और चौथी पर बद्रीनाथ की प्रतिमा स्थापित है। मंदिर परिसर में सुबह से ही धार्मिक अनुष्ठानों का आयोजन किया जा रहा है।

रानीकटरा के अलावा शहर के दूसरे बड़े मंदिरों में भी लोगों की भीड़ देखी जा रही है और लोग सुबह से ही पूजा और महाआरती में लगे हुए हैं।

अक्षय तृतीया के सम्बंध में ज्योतिषाचार्य बासुदेवा नंद ने बताया कि इतवार  को रोहिणी नक्षत्र है जो विवाह के लिए सवरेत्तम नक्षत्र माना जाता है। आज राजधानी में ही करीब सैकड़ों शादियों का आयोजन किया गया है।

उन्होंने बताया कि अक्षय तृतीया के मौके पर लक्ष्मी के साथ नारायण की भी पूजा होती है। विवाह में कन्या को लक्ष्मी की प्रतिरूप और वर को नारायण का प्रतिरूप मान कर सम्मान दिया जाता है। विवाह के लिए अक्षय तृतीया बहुत अच्छा दिन माना जाता है।

*****

हिन्दी में राष्ट्रीय - अंतरराष्ट्रीय समाचार, लेख, भाषा - साहित्य एवं प्रवासी दुनिया से नि:शुल्क जुड़ाव के लिए
अपना ईमेल यहाँ भरें :

Leave a Reply