मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

Archive for the Category ‘कहानी’


मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा

Sunday, October 4th, 2015
मोल्डिंग सिस्टम  -- अलका सिन्हा रंजन का फोन आया था। खुशी से चहकते हुए उसने बताया कि वह थाइलैंड गया था और ताइक्वांडो में उसने थाइलैंड को हराकर सिल्वर मेडल जीता था। “गोल्ड क्यों नहीं?” मीठे उलाहने से मैंने पूछा था। “ये तो पहला मौका था भाभी, दिसंबर में चीन के साथ मैच है, तब गोल्ड मारूंगा।” ...

दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन

Saturday, October 3rd, 2015
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन  अपने ही घर में माया चूहे सी चुपचाप घुसी और सीधे अपने शयनकक्ष में जाकर बिस्तर पर बैठ गई, स्तब्ध. जीवन में आज पहली बार, मानो सोच के घोड़ों की लगाम उसके हाथ से छूट गई थी. आराम का तो सवाल ही नहीं पैदा होता था. अब समय ही कहां ...

खँडहर की लिपि -जयशंकर प्रसाद

Thursday, January 30th, 2014
खँडहर की लिपि -जयशंकर प्रसाद जब बसन्त की पहली लहर अपना पीला रंग सीमा के खेतों पर चढ़ा लायी, काली कोयल ने उसे बरजना आरम्भ किया और भौंरे गुनगुना कर काना-फूँसी करने लगे, उसी समय एक समाधि के पास लगे हुए गुलाब ने मुँह खोलने का उपक्रम किया। किन्तु किसी युवक के चञ्चल हाथ ने ...

कहानी – आजादी – पद्मा मिश्रा

Friday, January 24th, 2014
कहानी – आजादी - पद्मा मिश्रा    कमरे में  टीवी तेज आवाज के साथ मौजूद था -गणतंत्र दिवस की धूम और जश्न का मुख्य समारोह दिल्ली से प्रसारित हो रहा था, गाँव से वर्षों बाद अपने बेटे के पास आये स्वतंत्रता सेनानी दादाजी पूरे जोश में थे, और पास बैठे पोते-पोतियों के साथ उत्साहपूर्वक स्व्तंत्रता की ...

परमात्मा का कुत्ता – मोहन राकेश

Wednesday, January 8th, 2014
परमात्मा का कुत्ता - मोहन राकेश बहुत-से लोग यहाँ-वहाँ सिर लटकाए बैठे थे जैसे किसी का मातम करने आए हों। कुछ लोग अपनी पोटलियाँ खोलकर खाना खा रहे थे। दो-एक व्यक्ति पगडिय़ाँ सिर के नीचे रखकर कम्पाउंड के बाहर सडक़ के किनारे बिखर गये थे। छोले-कुलचे वाले का रोज़गार गरम था, और कमेटी के नल के ...

कहानी – अनकहे बलिदान लेखक अम्बरीश मिश्रा

Sunday, January 5th, 2014
कहानी - अनकहे बलिदान लेखक अम्बरीश मिश्रा    दक्षिण अंडमान के पोर्टब्लेयर की राष्ट्रीय स्मारक-सैल्युलर जेल में, उसकी आपबीती सुनाने के लिये आयोजित, 'लाइट तथा साउन्ड' कार्यक्रम को देखने की अपनी वर्षों की इच्छा को पूरा करने के लिये, वहाँ पीछे पड़ी कुर्सियों पर पत्नी के साथ जब बैठने लगे, तो हमें किसी ने टोकते हुये कहा,- " ...

कहानी गरम स्पर्श

Thursday, January 2nd, 2014
 कहानी  गरम स्पर्श सिन्धी कहानी                                           मूल: अर्जुन चावला                              अनुवाद: देवी नागरानी       कैप्टन मनीष को आसाम से नागालैंड  में तबादले का ऑर्डर मिला तो दिल कुछ उदास होने लगा। पर और भी बहुत सारे साथियों को तबादले के ऑर्डर आए थे  यह जानकार कुछ ढाढ़स मिला।  सोचा कुछ तो दोस्त साथ होंगे।  वक़्त ...

कहानी – लतिका – सुधा भार्गव

Monday, December 30th, 2013
कहानी - लतिका - सुधा भार्गव     हाँ, उसका नाम लतिका ही था ।     उसकी तरह न जाने इस   जग में कितनी भरी पड़ी हैं जो लता बनने से पहले ही लताड़ दी जाती हैं या अपना इस्तेमाल करने के लिए खुद विवश हो उठती हैं । उसके साथ तो कुछ यू हुआ –तीन भाइयों वाली वह ...

कहानी – सुगन्ध लेखक अम्बरीश मिश्रा

Thursday, December 26th, 2013
कहानी - सुगन्ध लेखक अम्बरीश मिश्रा      एक माह से अधिक की लम्बी बीमारी के बाद हमारे संसस्थान, इन्डियन ऑयल कार्पोरेशन के पूर्व चेयरमैन तथा डाइरेक्टर (आर.एण्ड.डी.), डा. प्रणब कुमार मुखोपाध्याय के निधन पर उन्हें अन्तिम श्रद्धांजलि देने के लिये काफी सख्या में लोग देहली के लोधीरोड शमशान घाट पर इकठ्ठा हुये थे। इनमें ...

कहानी – रोशनी के नाम – पद्मा मिश्रा

Monday, December 16th, 2013
कहानी - रोशनी के नाम - पद्मा मिश्रा   पार्क की हरी घास पर अभी ओस की बूंदें मौजूद थीं हवा बिलकुल स्वच्छ और मन को ताजगी दे रही थी. ,विवेकजी धीरे से बेंच पर बैठ गए .बच्चे शोर मचाते कोई खेल खेल रहे थे तभी एक बाल आकर उनके पैरों से टकराई''अंकल, प्लीज ज़रा बाल दे दीजिये'' ...
Page 1 of 1712345...10...Last »