मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

Archive for the Category ‘विविध’


हिंदीमय थे फादर कामिल बुल्के

Sunday, September 1st, 2013
हिंदीमय थे फादर कामिल बुल्के स्वर्गीय डॉ कामिल बुल्के का जन्म सन् 1909 में बेल्जियम के ‘रैम्सचैपल’ नामक गांव में हुआ था और उनका देहावसान 17 अगस्त सन् 1982 में नई दिल्ली, भारत में हुआ। बुल्के जी आरंभ से ही आध्यात्मिक प्रवृत्ति के व्यक्ति थे। यद्यपि सन् 1930 में उन्होंने लुधेन विश्वविद्यालय से इंजीनियरिंग की डिग्री ...

कैसे 9/11 और राष्ट्रपति पद ने जिहादी आतंक के बारे में ओबामा के नजरिए में आमूलचूल बदलाव किया।

Thursday, July 25th, 2013
कैसे 9/11 और राष्ट्रपति पद ने जिहादी आतंक के बारे में ओबामा के नजरिए में आमूलचूल बदलाव किया। मैंने अपने पिछले ब्लॉग (21 जुलाई) में पाठकों के लिए दि न्यूयार्क टाइम्स में प्रकाशित एबटाबाद प्रकरण पर पाकिस्तान सरकार की जांच रिपोर्ट और ओसामा बिन लादेन के मारे जाने सम्बन्धी रिपोर्ट का सारांश प्रस्तुत किया था। अब तक इस ऑपरेशन एबटाबाद पर अनेक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी होंगी। सर्वप्रथम जो ...

संवेदनशील संस्मरणों की रचयिता

Wednesday, March 27th, 2013
संवेदनशील संस्मरणों की रचयिता महादेवी वर्मा के काव्य की तरह ही उनका गद्य विशेषकर उनके संस्मरण भी बहुत ही लोकप्रिय हुए। गद्य में उन्होंने कभी कहानियाँ तो नहीं लिखीं पर उनके संस्मरणों में कहानियाँ की रोचकता के साथ-साथ काव्य की करुणा, संवेदना और लयात्मकता तो है ही, उनके गहरे सामाजिक सरोकार की झलक भी मिलती ...

महादेवी वर्मा की पहचान

Monday, March 25th, 2013
महादेवी वर्मा की पहचान सात दशक बीत जाने पर भी आधुनिक हिंदी साहित्य की सबसे महत्वपूर्ण काव्य-प्रवृत्ति ‘छायावाद’ की प्रसिद्धि जैसी की तैसी है। इस धारा के चार प्रमुख कवियों के बीच एकमात्र महिला रचनाकार हैं महादेवी वर्मा। कवि के रूप में उनकी छवि निजी जीवन के दुख-सुख को कविता में व्यक्त करने वाली विरह-कातर ...

अज्ञेय की कलम से

Wednesday, March 6th, 2013
अज्ञेय की कलम से "मैं 'स्वान्त:सुखाय' नही लिखता। कोई भी कवि केवल स्वान्त:सुखाय लिखता है या लिख सकता है, यह स्वीकार करने में मैंने अपने को सदा असमर्थ पाया है। अन्य मानवों की भांति अहं मुझमें भी मुखर है, और आत्माभिव्यक्ति का महत्व मेरे लिये भी किसी से कम नही है, पर क्या आत्माभिव्यक्ति ...

महिलाओं में दिल का डाक्टर बनने का क्रेज बढ़ा : पद्मावती

Saturday, September 29th, 2012
महिलाओं में दिल का डाक्टर बनने का क्रेज बढ़ा : पद्मावती सितम्बर २९,नई दिल्ली| जिंदगी के इस पड़ाव पर आदमी बिस्तर या घर के सीमित दायरे में सिमटकर रह जाता है, पर देश की पहली कार्डियोलॉजिस्ट 93 वर्षीया एस़ आई पद्मावती की दिनचर्या पहले की तरह ही व्यस्त है। इस उम्र में भी वे मरीजों का भरपूर खयाल रखती हैं। वे ...

आडवाणी ने अवैद्यनाथ पर पुस्तक का विमोचन किया

Saturday, September 8th, 2012
आडवाणी ने अवैद्यनाथ पर पुस्तक का विमोचन किया सितम्बर ०८,लखनऊ | भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में स्थित गोरखनाथ मंदिर में पूजा अर्चना करने के बाद अवैद्यनाथ पर आधारित पुस्तक का शनिवार को विमोचन किया। आडवाणी गोरखपुर में कई कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे। राम मंदिर आंदोलन से जुड़े रहे ...

देश के शेयर बाजारों में गिरावट का रुख

Wednesday, July 11th, 2012
देश के शेयर बाजारों में गिरावट का रुख मुम्बई ,जुलाई 11 : देश के शेयर बाजारों में अंतिम कारोबारी दिन शुक्रवार को गिरावट का रुख देखने को मिला है. प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स सुबह लगभग 10.19 बजे 88.56 अंकों की गिरावट के साथ 17,450.11 पर और निफ्टी लगभग इसी समय 32.30 अंकों की गिरावट के साथ 5,295.00 पर कारोबार करते ...

आज का शेर – जिगर मुरादाबादी

Tuesday, June 5th, 2012
प्रस्तुति -मनीष मोदी वो ज़ुल्फ़ें दोश पर बिखरी हुई हैं जहाने-आरज़ू थर्रा रहा है ~ जिगर मुरादाबादी vo zulfein dosh par bikharii huii hain jahaane-aarazuu tharraa rahaa hai ~ Jigar Muradabadi They way her hair lies on those shapely shoulders, My world throbs with desire.

आज का शेर – मीर तक़ी मीर

Sunday, June 3rd, 2012
प्रस्तुति - मनीष मोदी   दिल अजब शहर था ख़यालों का लूटा मारा है हुस्नवालों का ~ मीर तक़ी मीर دل عجب شہر تھا خیالوں کا لوٹا مرا ہے حسنوالوں کا ~ میر تقی میر   dil ajab shahar thaa khayaalon kaa luutaa maaraa hai husnvaalon kaa ~ Mir Taqi MirThe heart was a strange city of thoughts Ravaged by a beautiful ...
Page 1 of 3123