मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

Archive for the Category ‘कला-संस्कृति-ज्योतिष’


नवरात्र विशेषः आइये जानें माँ दुर्गा के नौ स्वरूप और कैसे करें उनकी साधना

Sunday, October 4th, 2015
नवरात्र विशेषः आइये जानें माँ दुर्गा के नौ स्वरूप और कैसे करें उनकी साधना नवरात्र का महत्व - नवरात्र संस्कृत शब्द है, नवरात्रि एक हिंदू पर्व है, जिसका अर्थ होता है नौ रातें। यह पर्व साल में दो बार आता है। एक शारदीय नवरात्रि, दूसरा है चैत्रीय नवरात्रि। नवरात्रि के नौ रातों में तीन हिंदू देवियों- पार्वती, लक्ष्मी और सरस्वती के नौ में स्वरूपों ...

पितर, श्राद्ध और विधि – कविता वाचक्नवी

Saturday, October 3rd, 2015
   21'श्राद्ध' शब्द बना है 'श्रद्धा' से। 'श्रद्धा' शब्द की व्युत्पत्ति 'श्रत्' या 'श्रद्' शब्द से 'अङ्' प्रत्यय की युति होने पर होती है, जिसका अर्थ है- 'आस्तिक बुद्धि। ‘सत्य धीयते यस्याम्’ अर्थात् जिसमें सत्य प्रतिष्ठित है। छान्दोग्योपनिषद् 7/19 व 20 में श्रद्धा की दो प्रमुख विशेषताएँ बताई गई हैं - ...

आओ चलें इधर भी -तिरुपति वेंकटेश्वर मन्दिर

Tuesday, March 25th, 2014
आओ चलें इधर भी -तिरुपति वेंकटेश्वर मन्दिर भगवान विष्णु का प्रसिद्ध तिरुपति वेंकटेश्वर मन्दिर आन्ध्र प्रदेश के चित्तूर ज़िले के तिरुपति में स्थित है। तिरुमला के सात पर्वतों में से एक वेंकटाद्रि पर बना श्री वेंकटेश्वर मन्दिर यहाँ का सबसे बड़ा आकर्षण का केन्द्र है। इसलिए इसे सात पर्वतों का मन्दिर के नाम से भी जाना जाता ...

बुढ़वा मंगल

Tuesday, March 25th, 2014
बुढ़वा मंगल बुढ़वा मंगल भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक होली से जुड़ा है, जो उत्तर प्रदेश के बनारस में मुख्य रूप से मनाया जाता है। वैसे तो देश में प्रत्येक स्थान पर होली अलग-अलग तरह से मनाई जाती है, किंतु वाराणसी (आधुनिक बनारस) में इसे मनाने का अपना एक निराला ...

वस्तु-शास्त्र में दिशाओं का महत्व – पं. श्यामबिहारी मिश्र

Thursday, February 6th, 2014
वस्तु-शास्त्र में दिशाओं का महत्व - पं. श्यामबिहारी मिश्र वास्तु-शास्त्र का प्रचलन दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है। कुछ लोग इस पर अंध्-विश्वास की सीमा तक विश्वास करते हैं और अपने बने बनाए भवनों में तोड़-फोड़ कर लाखों का नुकसान कर बैठते हैं। दूसरे इसे बिल्कुल पोंगा पंथी मानते हैं। दोनों ही अवस्थाओं को प्रशंसनीय नहीं कहा जा सकता। वास्तु-शास्त्र ...

मासिक राशिफल माह जनवरी 2014 एवं मास के व्रत, पर्व एवम त्यौहार

Tuesday, December 31st, 2013
मासिक राशिफल माह जनवरी 2014 एवं मास के व्रत, पर्व एवम त्यौहार    1  जनवरी:    नववर्ष 2014 (र्इ0),    देवपितृ कार्य अमावस्या,  4 जनवरी: गणेश चतुर्थी व्रत,  5 जनवरी : गुरु गोविन्द सिंह जयन्ती,  8 जनवरी: दुर्गाष्टमी,  10 जनवरी: शाम्ब दशमी,  11 जनवरी: पुत्रदा एकादशी व्रत,  12 जनवरी: स्वामी विवेकानन्द जयंती,  13 जनवरी: प्रदोष व्रत, लोहड़ी पर्व,  14 जनवरी: मकर संक्रांति (माघ ...

सिक्खों के छठे गुरु गुरु हरगोबिंद सिंह

Sunday, December 22nd, 2013
सिक्खों के छठे गुरु  गुरु हरगोबिंद सिंह  गुरु हरगोबिंद सिंह सिक्खों के छठे गुरु थे, जिनका जन्म माता गंगा व पिता गुरु अर्जुन सिंह के यहाँ 14 जून, सन् 1595 ई. में बडाली (भारत) में हुआ था। गुरु हरगोबिंद सिंह ने एक मज़बूत सिक्ख सेना संगठित की और अपने पिता गुरु अर्जुन के (मुग़ल शासकों (1606) के ...

एक तरफ हो जा – इन्द्रा धीर वडेरा

Monday, December 9th, 2013
एक तरफ हो जा - इन्द्रा धीर वडेरा   कनाडा की निवासी श्रीमती इंदिरा धीर वडेरा लेखक, विचारक और चिंतक हैं। छोटी और सामान्य घटनाओँ से बड़े निष्कर्षों तक पहुंचना और चिंतन के महत्वपूर्ण बिंदु विकसित करना उनकी विशेषता है। ऐसे ही एक छोटे से वाक्य के इर्द गिर्द उन्होंने साधना के उपाय की खोज कर ली। ...

रानीखेत

Thursday, November 28th, 2013
रानीखेत रानीखेत उत्तराखंड राज्य के अल्मोड़ा ज़िले के अंतर्गत एक पहाड़ी पर्यटन स्थल है। देवदार और बलूत के वृक्षों से घिरा रानीखेत बहुत ही रमणीक एक लघु हिल स्टेशन है। काठगोदाम रेलवे स्टेशन से 85 किमी. की दूरी पर स्थित यह अच्छी पक्की सड़क से जुड़ा है। इस स्थान से हिमाच्छादित ...

कालभैरवाष्टमी

Tuesday, November 26th, 2013
कालभैरवाष्टमी कालभैरवाष्टमी मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मनाई जाती है। भगवान शिव के अवतार कहे जाने वाले 'कालभैरव' का अवतार मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को हुआ था। इस संबंध में शिवपुराण की 'शतरुद्रसंहिता' में बताया गया है। शिवजी ने कालभैरव के रूप में अवतार लिया ...
Page 1 of 7012345...102030...Last »