मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

चिदम्बरम-अखिलेश ने इडली के साथ की व्यापार पर चर्चा


chidambaram-akhileshलखनऊ, मार्च 30 : केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदम्बरम और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शुक्रवार को कॉफी, इडली और सांबर बड़ा के साथ वार्ता की। यह मुलाकात ऐसे समय में हुई जब समाजवादी पार्टी (सपा) और कांग्रेस के बीच दुराव की आशंका को लेकर अटकलें लगाई जा रही हैं।

मुलाकात की जानकारी रखने वाले एक अधिकारी ने कहा कि दोनों नेताओं के बीच राजनीति को लेकर वार्ता नहीं हुई।

केंद्रीय मंत्री की दक्षिण भारतीय पसंद को देखते हुए इस मुलाकात में सोच समझ कर नाश्ते मंगवाए गए थे। मुलाकात सुबह 8.50 बजे से साढ़े नौ बजे सुबह तक चली। इस बीच उत्तर प्रदेश के विकास पर वार्ता केंद्रित रही।

बैठक में मौजूद एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “वित्त मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार उत्तर प्रदेश के विकास के लिए प्रतिबद्ध है।”

अधिकारी के मुताबिक अखिलेश यादव ने मंत्री के सामने कई मांगें रखीं। अधिकारी के मुताबिक चिदम्बरम ने कहा, “मैं इन पर गौर करुं गा और कुछ सप्ताह में इस पर फिर से बात करूंगा।”

माना जा रहा है कि अखिलेश यादव ने चिदम्बरम से केंद्रीय योजनाओं के लिए पैसे जल्दी जारी करने का अनुरोध किया।

अधिकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री ने चिदम्बरम से 3.5 अरब डॉलर की सहायता को भी मंजूरी देने की मांग की, जो राज्य विश्व बैंक, एशियाई विकास बैंक और अन्य विदेशी एजेंसी से लेना चाहता है।

केंद्रीय मंत्री ने सिर्फ तीन महीने में राज्य में 300 बैंक शाखाएं खोलने में सफल रहने के लिए राज्य के अधिकारियों की तारीफ की।

बाद में बैंकों की शाखाओं के उद्घाटन के कार्यक्रम में चिदम्बरम ने अवसर का लाभ उठाते हुए सपा अध्यक्ष नेताजी (मुलायम सिंह यादव) को आश्वस्त किया कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन राज्य के विकास के लिए समर्पित है।

चिदम्बरम ने हालांकि इस मौके पर देश के गरीब राज्यों के बारे में भी स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि वह किसी भी राज्य को विशेष दर्जा देने के पक्ष में नहीं हैं और चाहते हैं कि पूरा देश एक साथ विकास करे।

हिन्दी में राष्ट्रीय - अंतरराष्ट्रीय समाचार, लेख, भाषा - साहित्य एवं प्रवासी दुनिया से नि:शुल्क जुड़ाव के लिए
अपना ईमेल यहाँ भरें :

Leave a Reply