मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

बाल-साहित्य की चुनी हुई 20 रचनाएं


बचपन में हम जो कुछ पढ़ते हैं, वह ऐसी अमिट छाप छोड़ता है, जो कई बार तो हमारी पहचान तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पहले जमाने में दादी-नानी बच्चों को कहानियां सुनाती थीं। अब वह वक्त नहीं रहा। ऐसे में क्यों न बच्चों को बेहतरीन किताबें पढ़ने को दी जाएं या उन्हें पढ़कर सुनाई जाएं। यहां उपलब्ध है उन किताबों की एक लंबी सूची, जससे बच्चों की दुनिया और बेहतर होगी।

1. कुत्ते की कहानी (उपन्यास), लेखक : प्रेमचंद,

प्रकाशक : संदर्भ प्रकाशन, दिल्ली, कीमत : 70 रुपये

यह  हिंदी का पहला बाल उपन्यास है। मामूली कुत्ता कल्लू अपनी हिम्मत और बहादुरी की वजह से एक अंग्रेज साहब का प्यारा बन जाता है। अब उसकी सेवा करने के लिए नौकर-चाकर मौजूद हैं, पर कल्लू सुखी नहीं है। वह महसूस करता है कि अब उसके गले में गुलामी का पट्टा बंधा हुआ है।

2. बजरंगी नौरंगी (उपन्यास), लेखक : अमृतलाल नागर,

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन, दिल्ली, कीमत : 15 रुपये

उपन्यासकार अमृतलाल नागर का ‘बजरंगी-नौरंगी’ जिंदादिली से भरपूर उपन्यास है। बजरंगी और नौरंगी के रूप में उन्होंने जिन पात्रों को लिया है, वे हैं भी बड़े गजब के। उपन्यास इतनी जानदार भाषाशैली में लिखा गया है कि हिंदी के बाल उपन्यासों में ‘बजरंगी-नौरंगी’ की धमक कुछ अलग ही है।

3. पहाड़ चढ़े गजनंदन लाल (कहानी), लेखक : विष्णु प्रभाकर,

प्रकाशक : प्रकाशन विभाग, नई दिल्ली, कीमत : 42 रुपये

इसमें बच्चों के लिए लिखी गईं 12 चुस्त-चपल कहानियां हैं। इनमें ‘पहाड़ चढ़े गजनंदनलाल’ और ‘दक्खन गए गजनंदनलाल’ एकदम निराली हैं। इन्हें पढ़ते हुए कभी हंसी की फुरफुरी छूट निकलती है तो कभी भीतर कोई गहरा अहसास बस जाता है, जो हमें जिंदादिली से जीने की ताकत देता है।

4. गीत भारती (कविता), लेखक : सोहनलाल द्विवेदी,

प्रकाशक : प्रकाशन विभाग, नई दिल्ली, कीमत : 20 रुपये

सोहनलाल द्विवेदी हिंदी बाल कविता के भगीरथों में से हैं, जिन्होंने बाल कविता को हर बच्चे की जबान तक पहुंचाया। ‘गीत भारती’ में सुंदर और अनूठी 20 बाल कविताएं हैं। खासकर ‘अगर कहीं मैं पैसा होता’, ‘सपने में’, ‘नीम का पेड़’, ‘घर की याद’ ऐसी कविताएं हैं, जिनमें बहुत थोड़े शब्दों में जीवन की गहरी बातें उड़ेल दी गई हैं।

5. आटे बाटे सैर सपाटे (कविता), लेखक : कन्हैयालाल मत्त,

प्रकाशक : सुयोग्य प्रकाशन, नई दिल्ली, कीमत : 125 रुपये

कन्हैयालाल मत्त की निराले अंदाज की बाल कविताओं की लंबे अरसे तक धूम रही है, जिनमें अजब-सी मस्ती और फक्कड़पन है। ‘आटे बाटे सैर सपाटे’ मत्त की बाल कविताओं का प्रतिनिधि संकलन है, जिसमें उनकी 51 चुनिंदा कविताएं हैं। इन कविताओं में गजब की लयात्मकता के साथ-साथ हास्य-विनोद की फुहारें बच्चों को खूब रिझाती हैं।

6. बतूता का जूता (कविता), लेखक : सर्वेश्वरदयाल सक्सेना,

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन, नई दिल्ली, कीमत : 20 रुपये

‘ बतूता का जूता’ बच्चों के लिए लिखी गई ऐसी कविताओं का संग्रह है, जिन्होंने बाल कविता को नया मोड़ दिया। इसमें 18 बाल कविताएं हैं, जो अपने समय में खूब चर्चित हुई थीं और आज भी उनका वही जादू बरकरार है। इनमें कई कविताएं तो ऐसी हैं, जिन्हें दुनिया की किसी भी समर्थ भाषा की अच्छी-से-अच्छी बाल कविता के बराबर रखा जा सकता है।

7. तीनों बंदर महाधुरंधर (कविता), लेखक : शेरजंग गर्ग,

प्रकाशक : आत्माराम ऐंड संस, दिल्ली, कीमत : 75 रुपये

‘तीनों बंदर महाधुरंधर’ 51 कविताओं का संग्रह है। ये ऐसी कविताएं हैं, जिन्हें पढ़कर एक समूची पीढ़ी अब युवा हो गई है, पर इन कविताओं का जादू अब भी उतरा नहीं है। एक ओर इस किताब में भोलेपन की मस्ती से भरे सुंदर और छबीले शिशुगीत हैं, तो दूसरी ओर ऐसी कविताएं, जिनमें खेल-खेल में बड़ी बातें सिखाई गई हैं।

8. मेरे प्रिय शिशुगीत (कविता), लेखक : डॉ. श्रीप्रसाद,

प्रकाशन : हिमाचल बुक सेंटर, दिल्ली, कीमत : 250 रुपये

अपने नटखट शिशुगीतों के लिए चर्चित रहे डॉ. श्रीप्रसाद के चुने हुए सुंदर शिशुगीतों का संकलन ‘मेरे प्रिय शिशुगीत’ एक सुखद आश्चर्य की तरह है। किताब में ज्यादातर शिशुगीत ऐसे हैं, जिनके साथ बच्चे खिलखिलाते हैं और कुछ सीखते भी हैं।

9. सूरज का रथ (कविता), लेखक : बालस्वरूप राही,

प्रकाशक : मेधा बुक्स, दिल्ली, कीमत : 25 रुपये

एक दौर था जब बालस्वरूप राही की कविताएं हर बच्चे के होंठों पर नाचती थीं। आज भी उनका वही जादू बरकरार है। यहां तक कि बड़े भी उनके रस से भीगते और रीझते हैं। ‘सूरज का रथ’ में लीक से हटकर लिखी गई 21 बाल कविताएं हैं, जिनमें नई सूझ, नए रंग और कुछ नया ही जादू है। संग्रह की हर कविता ऐसी है, जिसे पढ़कर बच्चे झूम उठते हैं।

10. कमलेश्वर के बाल नाटक (नाटक), लेखक : कमलेश्वर,

प्रकाशक : प्रवीण प्रकाशन, नई दिल्ली, कीमत : 150 रुपये

कमलेश्वर के बाल नाटकों का अपना अलग रंग है, जो बच्चों को ही नहीं, बड़ों को भी लुभाते हैं। ‘पैसों का पेड़’, ‘पिटारा’, ‘जेबखर्च’, ‘झूठी दीवारें’, ‘डॉक्टर की बीमारी’ नाटक एकदम नए ढंग के हैं और कथ्य, भाषा और अंदाज में लीक से हटकर हैं। हिंदी में बच्चों के लिए लिखे गए इतने सहज, सफल नाटक कम ही हैं।

11. गणित देश और अन्य नाटक (नाटक), लेखक : रेखा जैन,

प्रकाशक : रत्नसागर, दिल्ली, कीमत : 29.90 रुपये

रेखा जैन की गिनती हिंदी के उन सिरमौर नाटककारों में की जाती है, जिन्होंने बच्चों के साथ खेल-खेल में नाटक लिखे और उन्हें उतने ही अनूठे अंदाज में पेश किया। ‘गणित देश और अन्य नाटक’ में रेखा के अलग-अलग रंग और शेड्स के छह बहुचचिर्त नाटक हैं। गणित से डरनेवाले बच्चों के लिए ऐसा खिलंदड़ नाटक भी बुना जा सकता है, इसकी कल्पना करना मुश्किल है।

12. दूसरे ग्रहों के गुप्तचर (उपन्यास), लेखक : हरिकृष्ण देवसरे,

प्रकाशक : शकुन प्रकाशन, नई दिल्ली, कीमत : 30 रुपये

इसमें वैज्ञानिक फंतासी बहुत करीने-से बुनी गई है। कथा यह है कि किसी दूसरे ग्रह के लोग जासूसी करने के लिए पृथ्वी पर आते हैं। वे यहां एक भव्य होटल स्थापित करते हैं, जिसमें सारा काम रोबॉटों के जरिए होता है। दो किशोर दोस्त राकेश और राजेश इसका रहस्य जानने के लिए निकलते हैं, तो हैरान कर देनेवाली घटनाएं घटने लगती हैं।

13. घडि़यों की हड़ताल (उपन्यास), लेखक : रमेश थानवी,

प्रकाशक : एनसीईआरटी, नई दिल्ली, कीमत : 40 रुपये

रमेश थानवी का यह उपन्यास एक प्रयोगधर्मी उपन्यास है, जिसमें हमारा समय और सच्चाइयां खुलकर सामने आती हैं। उपन्यास की शुरुआत में ही घडि़यों की इस अनोखी हड़ताल का जिक्र है, जिससे सब जगह हड़कंप मच जाता है और सारे काम रुक जाते हैं। बमुश्किल घडि़यों की यह हड़ताल खत्म होती है, जिसने जिंदगी की रफ्तार को ही रोक दिया था।

14. भोलू और गोलू (उपन्यास), लेखक : पंकज बिष्ट,

प्रकाशक : नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया, कीमत : 14.50 रुपये

‘ भोलू और गोलू’ में सर्कस में काम करनेवाले एक भालू के बच्चे भोलू और महावत के बच्चे गोलू की दोस्ती है। बड़ी ही प्यारी दोस्ती, जिससे दोनों को ही बड़ी खुशी मिलती है। खासकर भोलू तो गोलू से दोस्ती से पहले एकदम उदास और अनमना रहता है, पर आखिर उसने गोलू के दिल के प्यार को पहचाना। फिर तो उसकी जिंदगी में एक नई उमंग भर जाती है।

15. मैली मुंबई के छोक्रा लोग (उपन्यास), लेखक : हरीश तिवारी,

प्रकाशक : ग्रंथ सदन, दिल्ली, कीमत : 100 रुपये

इस उपन्यास का नायक रोज-रोज दुख और अपमान के धक्के खाता झोपड़-पट्टी का एक लड़का है, जिसके भीतर आखिर पढ़ने और कुछ कर दिखाने की लौ पैदा हो जाती है। उपन्यास में मुंबई के शोषित और अभावग्रस्त जीवन की बड़ी मामिर्क शक्लें हैं, जो मन पर गहरा असर डालती हंै।

16. चिडि़या और चिमनी (उपन्यास), लेखक : देवेंद्र कुमार,

प्रकाशक : आकाशदीप पब्लिकेशंस, दिल्ली, कीमत : 50 रुपये

‘ चिडि़या और चिमनी’ में एक फैक्ट्री है, जिसकी चिमनी से निकलनेवाले धुएं से चिडि़या का गला खराब हो जाता है और खांसी के कारण उसकी हालत लगातार बिगड़ती जाती है। आखिर जंगल के सारे जानवर मिलकर उस फैक्ट्री को घेर लेते हैं और चिमनी को तोड़ देना चाहते हैं। फिर समझ में आया कि फैक्ट्री के बंद हो जाने पर सैकड़ों मजदूर बेरोजगार हो जाएंगे।

17. शेर सिंह का चश्मा (कहानी), लेखक : अमर गोस्वामी,

प्रकाशक : वैभवशाली, दिल्ली, कीमत : 25 रुपये

यह अद्भुत हास्य-कथा है। जंगल के राजा शेर को बुढ़ापे के कारण कुछ कम दिखाई देने लगता है और वह खरगोश को चूहेराम समझ लेते हैं, ढेंचूराम को डंपी कुत्ता और लाली बंदर को गिलहरी। मगर लाली बंदर आखिर उनके लिए चश्मा ढूंढ़ लाया और शेर के लिए चश्मा लाने में क्या-क्या कमाल हुए, यह इस बड़ी ही नाटकीय कहानी ‘शेरसिंह का चश्मा’ को पढ़कर जाना जा सकता है।

18. शिब्बू पहलवान (उपन्यास), लेखक : क्षमा शर्मा,

प्रकाशक : ईशान प्रकाशन, नई दिल्ली, कीमत : 16 रुपये

‘ शिब्बू पहलवान’ क्षमा शर्मा का खासा दिलचस्प उपन्यास है, जिसके नायक हैं शिब्बू पहलवान। शिब्बू पहलवान की बहादुरी के अलावा उनकी दया, सरलता, खुद्दारी और स्वाभिमान की भी एक से बढ़कर एक ऐसी झांकियां हैं, जो मोह लेती हैं।

19. एक सौ एक बाल कविताएं (कविता), लेखक : दिविक रमेश,

प्रकाशक : मैट्रिक्स पब्लिशर्स, दिल्ली, कीमत : 200 रुपये

दिविक रमेश उन कवियों में से हैं जिन्होंने बच्चों के लिए बिल्कुल अलग काट की कविताएं लिखी हैं। पिछले कोई तीन दशकों में लिखी गई उनकी कविताओं में से चुनी हुई एक सौ एक कविताएं इस किताब में शामिल हैं, जिनमें दिविक की कविता का हर रंग और अंदाज है। इनके जरिए नई दुनिया की नई हकीकतों से भी परिचित होते हैं।

20. लड्डू मोतीचूर के (कविता), लेखक : रमेश तैलंग,

प्रकाशक : ग्लोरियस पब्लिशर्स, नई दिल्ली, कीमत : 150 रुपये

‘ लड्डू मोतीचूर के’ रमेश तैलंग के 101 शिशुगीतों का अद्भुत गुलदस्ता है। सभी बालगीत ऐसे कि आप पढ़ते जाएं और मंद-मंद मुसकराते जाएं। सभी में बच्चों की दुनिया की कोई अलग शक्ल, अलग बात है, पर साथ ही एक मीठी गुदगुदी भी है, जिससे ये गीत पढ़ते ही बच्चे की ाबान पर नाचने लगते हैं।

हिन्दी में राष्ट्रीय - अंतरराष्ट्रीय समाचार, लेख, भाषा - साहित्य एवं प्रवासी दुनिया से नि:शुल्क जुड़ाव के लिए
अपना ईमेल यहाँ भरें :

Leave a Reply