मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

कांग्रेस उत्तराखण्ड में सरकार बनने की तैयारी में


देहरादून। कांग्रेस ने उत्तराखण्ड में एक क्षेत्रीय दल और तीन निर्दलीय विधायकों के समर्थन से नई सरकार बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। इसके साथ ही विधानसभा चुनाव में किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत न मिलने के कारण उत्पन्न अनिश्चय की स्थिति खत्म हो गई है। पार्टी की प्रदेश इकाई के प्रमुख यशपाल आर्य ने शुक्रवार को दोपहर बाद राज्यपाल मारग्रेट अल्वा से मुलाकात की और उनके समक्ष तीन निर्दलीय और उत्तराखण्ड क्रांति दल-पंवार के एक विधायक प्रीतम सिंह पंवार का समर्थन पत्र पेश किया।

राज्यपाल अल्वा ने कहा कि उन्हें निर्दलीय सदस्यों के समर्थन पत्र मिले हैं।

अल्वा ने संवाददाताओं से कहा, “प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और निर्दलीय विधायक यहां आए। उन्होंने अपने पत्र भी दिए हैं। इस तरह कांग्रेस को सरकार गठन के लिए वांछित 36 विधानसभा सदस्यों का समर्थन प्राप्त है।”

उन्होंने कहा, “जब मैं उन्हें सरकार गठन के लिए आमंत्रित करूंगी, उसके बाद वे अपने नेता का चुनाव करेंगे।”

कांग्रेस नेता आर्य ने कहा कि कांग्रेस विधायक दल के नेता का फैसला पार्टी का राष्ट्रीय नेतृत्व नई दिल्ली में करेगा।

ज्ञात हो कि मंगलवार को चुनाव परिणामों की घोषणा के बाद राज्य में अनिश्चय की स्थिति उत्पन्न हो गई थी। राज्य की 70 सदस्यीय विधानसभा में कोई भी दल आधी संख्या यानी 35 के आंकड़े को पार नहीं कर सका।

चुनाव में कांग्रेस 32 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है, वहीं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) 31 सीटें जीतकर दूसरे स्थान पर है। उधर, राज्य में पांच साल शासन कर चुकी भाजपा भी इस बात पर कायम है कि वह दोबारा सत्ता हासिल करने का प्रयास करेगी।

बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) ने तीन सीटों पर विजय हासिल की है, लेकिन इस दल ने अभी पत्ते नहीं खोल हैं कि वह कांग्रेस को समर्थन देगी या नहीं।

बसपा के नेता सूरजमल ने कहा, “हम भाजपा एवं कांग्रेस दोनों के सम्पर्क में हैं। समर्थन देने या विपक्ष में बैठने का फैसला पार्टी प्रमुख मायावती करेंगी। वह जैसा निर्देश देंगी, हम वैसा ही करेंगे।”

हिन्दी में राष्ट्रीय - अंतरराष्ट्रीय समाचार, लेख, भाषा - साहित्य एवं प्रवासी दुनिया से नि:शुल्क जुड़ाव के लिए
अपना ईमेल यहाँ भरें :

Leave a Reply