मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

बद्रीनाथ में बचाव कार्य मौसम पर निर्भर : सेना प्रमुख


Bikram Singhदेहरादून,जून 29 । आपदा प्रभावित उत्तराखंड के बद्रीनाथ में अभी भी कुछ तीर्थयात्री फंसे हुए हैं और सेना प्रमुख जनरल बिक्रम सिंह ने शुक्रवार को कहा कि फंसे तीर्थयात्रियों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाने का काम मौसम के मिजाज पर निर्भर करेगा।

चमोली जिले के गौचर सैन्य ठिकाने पर पहुंचने के बाद सेना प्रमुख ने संवाददाताओं से कहा, “”हमें ऎसी सूचना मिल रही है कि कुछ लोग अभी भी बद्रीनाथ के नजदीक फंसे हुए हैं। हमने गुरूवार को कुछ उ़डानें भरवाई थीं, लेकिन बचाव कर्मी उनका पता नहीं लगा पाए। तीर्थयात्रियों के निकाले जाने का समय नहीं बताया जा सकता, यह मौसम पर निर्भर करेगा।”” जनरल सिंह ने कहा, “”लोग जहां कहीं भी हैं, हम उन्हें निकाल लेंगे।”” उन्होंने राहत एवं बचाव कार्य में लगे विभिन्न एजेंसियों के सुरक्षा बलों की कोशिशों की सराहना की। जनरल सिंह ने कहा कि बचाव दल को कठिन हालातों में क़डी मेहनत करनी प़डी है। उन्होंने कहा, “”यह बेहद कठिन अभियान था। सभी सुरक्षा एजेंसियों द्वारा लोगों को बचाने में किए गए एकीकृत प्रयास की तारीफ किए जाने की जरूरत है। वहां संचार का कोई साधन नहीं था। कई स्थानों पर पहुंचना मुश्किल था, लेकिन उन्होंने दुर्गम इलाकों में जा कर लोगों को बचाया।””

उन्होंने कहा, “”मैं राष्ट्रीय आपदा कार्रवाई बल (एनडीआरएफ), भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) और भारतीय वायुसेना के प्रयासों की तारीफ करना चाहूंगा। उन्होंने भारतीय सेना के साथ मिल कर बेहतरीन काम किया है।”” 14 जून से लगातार हो रही भारी बारिश की वजह से उत्तराखंड में लोगों को अचानक बाढ़ और भूस्खलन का सामना करना प़डा, जिसमें सैंक़डों लोगों को अपनी जान गंवानी प़डी और कई अब भी लापता है। इस आपदा के वक्त बद्रीनाथ और केदारनाथ इलाकों में हजारों तीर्थयात्री मौजूद थे।

हिन्दी में राष्ट्रीय - अंतरराष्ट्रीय समाचार, लेख, भाषा - साहित्य एवं प्रवासी दुनिया से नि:शुल्क जुड़ाव के लिए
अपना ईमेल यहाँ भरें :

Leave a Reply