मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

डा0 अंजना संधीर की पुस्तक ‘स्वर्ण आभा गुजरात’ का लोकार्पण समारोह


   अहमदाबाद में होगा लेखकों-पत्रकारों का जमावड़ा

वाजा के राष्ट्रीय महासचिव शिवेन्द्र प्रकाश  द्विवेदी, डा0  सुदर्शन   अयंगर कुलनायक,  गुजरात विद्यापीठ, डा0 जवाहर कार्नावट ; सहायक महाप्रबन्धक  राजभाषा बैंक आफ बड़ौदा,    डा0 रचना निगम ;संपादक, नारी अस्मिता, बड़ौदा, श्रीमती कान्ति अय्यर, ;वरिष्ठ साहित्यकार, श्रीमती देवी नागरानी, कवियत्री, यू.एस.ए., रमेश चन्द्र शर्मा ‘चन्द्र’ समेत कई गणमान्य साहित्यकार-पत्रकार करेंगे शिरकत

आगामी 1 अक्टूबर 2013,    को गुजरात  के   लेखकों-पत्रकारों   के लिए   एक अद्भुत व एतिहासिक क्षण होगा जब राइटर्स एंड जर्नलिस्ट एसोसियेशन (ॅश्र। प्छक्प्।) की गुजरात कोर्डिनेटर डा. अंजना सन्धीर द्वारा सम्पादित काव्य संग्रह ‘स्वर्ण आभा गुजरात’ का लोकार्पण अहिंसा भवन, गुजरात विद्यापीठ, अहमदाबाद में आयोजित एक भब्य समारोह के दौरान डा0 सुदर्शन  अयंगर, शिवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी, डा0 जवाहर कार्नावट , डा0 रचना निगम, श्रीमती कान्ति अय्यर, श्रीमती देवी नागरानी,  श्री रमेश चन्द्र शर्मा ‘चन्द्र’ समेत अन्य गणमान्य जनों की विशेष उपस्थिति में किया जायेगा।

ज्ञातव्य हो कि गुजरात की 100 हिन्दी कवियत्रियों का यह कविता      संग्रह ‘स्वर्ण आभा गुजरात’ अनेक दृष्टियों से अनोखा है। राष्ट्रीय स्तर पर लेखकों-पत्रकारों के साझा मंच ‘राइटर्स एण्ड जर्नलिस्ट एसोसियेशन’ गुजरात प्रदेश संयोजिका डा0 अंजना सन्धीर ने अपने इस सम्पादन के माध्यम से वह कर दिखाया है जो आज तक कभी नहीं हुआ। गुजरात में हिन्दी की अनेक संस्थायें हैं, अनेक अखिल भारतीय ख्याती प्राप्त दिग्गज भी हैं, पर राष्ट्रीय एकीकरण हेतु ऐसे दुर्गम मार्ग पर कोई नहीं चला। गुजरात की भाषा   गुजराती है अतः  यहाँ की कवियत्रियाँ    गुजराती में लिखें यह स्वभाविक ही है, परन्तु यहाँ हिन्दी में 100 महिलायें काव्य रचना करती हैं यह किसी स्वप्न के साकार होने जैसा है। निश्चित रूप से यह पुस्तक हिन्दी व गुजराती   भाषा- भाषियों के बीच एक सेतु का कार्य करेगी।

इस समारोह  के दौरान गुजरात की  लेखिकाओं के द्वारा रचित एवं प्रकाशित पुस्तकों की एक प्रदर्शनी भी आयोजित की जायेगी।

कार्यक्रम को सफल बनाने में राइटर्स एण्ड जर्नलिस्ट  एसोसियेशन  अपनी विशेष भूमिका अदा कर रहा है।

*****

हिन्दी में राष्ट्रीय - अंतरराष्ट्रीय समाचार, लेख, भाषा - साहित्य एवं प्रवासी दुनिया से नि:शुल्क जुड़ाव के लिए
अपना ईमेल यहाँ भरें :

Leave a Reply