मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

भारतीय-अमेरिकी वैज्ञानिक को 8.67 लाख डॉलर का अनुदान


grant of $ 8.67 millionह्यूस्टन,जनवरी 09 : अमेरिका की एक शोध एजेंसी ने भारतीय अमेरिकी न्यूरो वैज्ञानिक खलील रजाक को उनकी परियोजनाओं पर शोध आगे बढ़ाने के लिए 8,66,902 डॉलर का पांच वर्षीय अनुदान दिया है.

नेशनल साइंस फाउंडेशन ने रजाक को उनके उस शोध के लिए पुरस्कृत किया है, जिसमें उन्होंने इस बात का अध्ययन किया था कि मस्तिष्क रोजमर्रा की आवाजों पर कैसे काम करता है और किस तरह इसका इस्तेमाल लंबे समय से चली आ रही श्रवण संबंधी समस्याओं तथा फ्रैगाइल एक्स सिंड्रोम के लिए उपचार तैयार करने में किया जा सकता है.

मूल रुप से चेन्नई निवासी रजाक कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में मनोविज्ञान और तंत्रिका विज्ञान के सहायक प्रोफेसर हैं.

यहां स्थित उनकी प्रयोगशाला इस बात का अध्ययन करती है कि किस तरह मस्तिष्क का सुनने वाला हिस्सा आवाजों के लिए प्रतिक्रिया देता है और किस तरह इनमें अनुभव, बीमारी और उम्र बढ़ने के साथ बदलाव आता है. उन्हें यह अनुदान ‘फैकल्टी अर्ली कॅरियर डेवलपमेंट प्रोग्राम’ के तहत दिया गया है.

हिन्दी में राष्ट्रीय - अंतरराष्ट्रीय समाचार, लेख, भाषा - साहित्य एवं प्रवासी दुनिया से नि:शुल्क जुड़ाव के लिए
अपना ईमेल यहाँ भरें :

Leave a Reply