गोलीबारी के मामले में बेहद सख्त हैं प्रधानमंत्री मोदी बिलावल भुट्टो जरदारी ने कश्मीर विवाद को संयुक्त राष्ट्र की एक बड़ी असफलता करार दिया साहित्यकार शैलेश मटियानी के बेटे फेरी लगाकर बेच रहे किताबें महाराष्ट्र में मोदी ने लोगों को हिसाब को देने कहा सुब्रत रॉय की रिहाई के लिए हेजफंड की मदद लेगा सहारा समूह
नवाज शरीफ नोबेल पुरस्कार कार्यक्रम में शिरकत नहीं करेंगे भारतीय-अमेरिकी के नाम पर अमेरिका में बिजनेस स्कूल भारतीय-अमेरिकी प्रोफेसर थॉमस कैलथ को नेशनल मेडल ऑफ साइंस मोदी और ओबामा ने ऑप एड पेज पर लिखा संयुक्त आलेख नरेंद्र मोदी और ओबामा की वार्ता से नई उम्मीदें: विशेषज्ञ

Posts Tagged ‘रबिन्द्रनाथ टैगोर साहित्य’


रबीन्द्रनाथ टैगोर

Tuesday, May 7th, 2013
रबीन्द्रनाथ टैगोर  रबीन्द्रनाथ ठाकुर, गुरुदेव बीन्द्रनाथ ठाकुर (जन्म- 7 मई, 1861, कलकत्ता, पश्चिम बंगाल; मृत्यु- 7 अगस्त, 1941, कलकत्ता) एक बांग्ला कवि, कहानीकार, गीतकार, संगीतकार, नाटककार, निबंधकार और चित्रकार थे। भारतीय संस्कृति के सर्वश्रेष्ठ रूप से पश्चिमी देशों का परिचय और पश्चिमी देशों की संस्कृति से भारत का परिचय कराने में टैगोर की ...

गीतांजलि : रबिन्द्रनाथ टेगौर

Tuesday, May 7th, 2013
गीतांजलि : रबिन्द्रनाथ टेगौर गीतांजलि रबीन्द्रनाथ टैगोर पृष्ठ: 164 मूल्य:  $9.95 प्रकाशक:  राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित: अप्रैल ०३, २००४ प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश ‘गीतांजलि’ गुरूदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर (1861-1941) की सर्वाधिक प्रशंसित और पठित पुस्तक है। इसी प्रकार उन्हें 1910 में विश्व प्रसिद्ध नोबेल पुरस्कार भी मिला । इसके बाद अपने जीवन काल में अपने पूरे जीवन काल में वे भारतीय साहित्य पर ...

रबिन्द्रनाथ टैगोर का साहित्यिक सफ़र

Thursday, June 30th, 2011
रबिन्द्रनाथ टैगोर का साहित्यिक सफ़र ‘प्रसन्‍न रहना तो बहुत सहज है, परन्‍तु सहज रहना बहुत कठि‍न’ – रवीन्‍द्रनाथ टैगोर * रवीन्‍द्रनाथ टैगोर (1861 – 1941) ब्रह्म समाज के नेता देबेन्‍द्रनाथ टैगोर के सबसे छोटे पुत्र थे. वे कलकत्‍ता के एक धनी व प्रसि‍द्ध परि‍वार में पैदा हुए थे. उनके दादा ने एक वि‍शाल वि‍त्‍तीय साम्राज्‍य ...

विश्वकवि रवींद्रनाथ टैगोर

Thursday, May 19th, 2011
विश्वकवि रवींद्रनाथ टैगोर नोबेल पुरस्कार प्राप्त कवि रवीन्द्रनाथ टैगोर ने साहित्य, शिक्षा, संगीत, कला, रंगमंच और शिक्षा के क्षेत्र में अपनी अनूठी प्रतिभा का परिचय दिया। अपने मानवतावादी दृष्टिकोण के कारण वह सही मायनों में विश्वकवि थे। टैगोर दुनिया के संभवत: एकमात्र ऐसे कवि हैं जिनकी रचनाओं को दो देशों ने अपना राष्ट्रगान ...