मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

Posts Tagged ‘लोकप्रिय हिन्दी कवि’


मंथन – हर्षवर्धन आर्य

Wednesday, August 8th, 2012
मंथन - हर्षवर्धन आर्य मानता हूँ राजनीति कोई बीमारी नहीं है इसकी कीचड़ साफ करना भी कोई भारी नहीं है हो अदद इक होंसला मन में अगर ईमान का घूसखोरी ,भ्रष्टाचारी  ढोना लाचारी नहीं है बाड़ ही जब खेत की खाने लगेगी खेत तो फिर वहां पर भी कोई फूली फली क्यारी नहीं है कोसते हो,झीकते  हो देश को, सरकार ...

कविताओं के संदर्भ में अज्ञेय – इला कुमार

Saturday, September 17th, 2011
कविताओं के संदर्भ में अज्ञेय - इला कुमार सात मार्च 1911 को गोरखपुर के कुशीनगर में जन्मे हीरानंद, सच्चिदानंद वास्त्सायन ‘अज्ञेय’ की जन्मशती के अवसर पर उन्हें बार-बार साहित्य  प्रेमियों के द्वारा कई सम्मेलनों, गोष्ठियां आदि में श्रद्वापूर्वक याद किया जा रहा है। उनकी  रचनाओं के पुनर्पाठ किए गए। सच तो यह है कि इन  औपचारिक कार्यक्रमों के बीच ...

हर्षवर्धन आर्य की कविता

Friday, March 25th, 2011
हर्षवर्धन आर्य की कविता     मेरी अम्मा एक पिटारी यादों की मीठी लोरी लाड-प्यार की बातों की।   मैं सूरज हूं उसका, चांद-सितारा हूं झड़ी लगाती हर दम आशीर्वादों की।   वक्त झुका है हर दम जिसके कदमों में मां फौलादी  "औ" मजबूत इरादों ...