प्रधानमंत्री : फ्रांस, जर्मनी और कनाडा यात्रा से भारत के आर्थिक एजेंडे को मिलेगा बल इसरो ने किया आईआरएनएसएस-1 डी का सफल प्रक्षेपण सातवें आदिवासी युवा आदान-प्रदान कार्यक्रम इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड (ईआईएल) पर स्मारक डाक टिकट जारी राष्ट्रपति ने श्री अटल बिहारी बाजपेयी को भारत रत्न से सम्मानित किया
भारत-अमेरिका साझेदारी एक नए रणनीतिक चरण में : रिचर्ड वर्मा आरएसएस को आतंकवादी घोषित करने का विरोध करेगा अमेरिका अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार में अमिताभ भी शामिल श्रीलंकाई तमिलों को भारतीय नागरिकता पर विचार : रिजिजू पाकिस्तान कश्मीर मुद्दा सुलझाने का इच्छुक : बासित

Posts Tagged ‘वसंत ऋतु पर निबंध’


वसंत में खिल उठते हैं पंच तत्व – नरेन्द्र देवांगन

Friday, February 10th, 2012
वसंत में खिल उठते हैं पंच तत्व - नरेन्द्र देवांगन वसंत ऋतु में पंच तत्व अपना प्रकोप छोड़कर सुहावने रूप में प्रकट होते हैं। पंच तत्व जल, वायु, धरती, आकाश और अग्नि सभी अपना मोहक रूप दिखाते हैं। आकाश स्वच्छ है, वायु सुहावनी है, अग्नि (सूर्य) रुचिकर है, तो जल पीयूष के समान सुखदाता। और धरती? उसका तो कहना ही ...