बिजली की कमी 15 दिन में पूरी होगी: पीयूष गोयल सेबी से बचने के लिए इत्तेहाद-जेट शर्तों में बदलाव को सहमत एक्जिट पोल आने पर सबकी नजर शेयर बाजार पर भारत को दक्षिण चीन सागर तनाव पर चिंता की जरूरत नहीं : चीन मानवाधिकार कार्यकर्ता और वकील मुकुल सिन्हा का निधन
करण बिलिमोरिया बर्मिंघम विश्वविद्यालय के कुलाधिपति बने भारतीय मूल की इंदिरा बनीं मैसाचूसेटस में जज अमेरिका के इरविंग शहर में लगेगी महात्मा गांधी की प्रतिमा भारतीय-अमेरिकी डॉक्टर को उत्कृष्टता के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार मोदी सरकार से भी अमेरिका के रहेंगे नजदीकी संबंध

Posts Tagged ‘वसंत ऋतु पर निबंध’


वसंत में खिल उठते हैं पंच तत्व – नरेन्द्र देवांगन

Friday, February 10th, 2012
वसंत में खिल उठते हैं पंच तत्व - नरेन्द्र देवांगन वसंत ऋतु में पंच तत्व अपना प्रकोप छोड़कर सुहावने रूप में प्रकट होते हैं। पंच तत्व जल, वायु, धरती, आकाश और अग्नि सभी अपना मोहक रूप दिखाते हैं। आकाश स्वच्छ है, वायु सुहावनी है, अग्नि (सूर्य) रुचिकर है, तो जल पीयूष के समान सुखदाता। और धरती? उसका तो कहना ही ...