बिजली की कमी 15 दिन में पूरी होगी: पीयूष गोयल सेबी से बचने के लिए इत्तेहाद-जेट शर्तों में बदलाव को सहमत एक्जिट पोल आने पर सबकी नजर शेयर बाजार पर भारत को दक्षिण चीन सागर तनाव पर चिंता की जरूरत नहीं : चीन मानवाधिकार कार्यकर्ता और वकील मुकुल सिन्हा का निधन
करण बिलिमोरिया बर्मिंघम विश्वविद्यालय के कुलाधिपति बने भारतीय मूल की इंदिरा बनीं मैसाचूसेटस में जज अमेरिका के इरविंग शहर में लगेगी महात्मा गांधी की प्रतिमा भारतीय-अमेरिकी डॉक्टर को उत्कृष्टता के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार मोदी सरकार से भी अमेरिका के रहेंगे नजदीकी संबंध

Posts Tagged ‘हरिवंश राय बच्चन की कविताएँ’


मधुशाला: हरिवंश राय बच्चन

Tuesday, May 17th, 2011
मधुशाला: हरिवंश राय बच्चन   मधुशाला मृदु भावों के अंगूरों की आज बना लाया हाला,प्रियतम, अपने ही हाथों से आज पिलाऊँगा प्याला,पहले भोग लगा लूँ तेरा फिर प्रसाद जग पाएगा,सबसे पहले तेरा स्वागत करती मेरी मधुशाला।।१। प्यास तुझे तो, विश्व तपाकर पूर्ण निकालूँगा हाला,एक पाँव से साकी बनकर नाचूँगा लेकर प्याला,जीवन की मधुता ...