काशी की बुनकरी चमकाने में निफ्ट की गांठ भारत और चीन ने किए 12 समझौते , पांच साल में 20 अरब डॉलर का चीनी निवेश भारत दौरे पर आए राष्ट्र प्रमुख करें दिल्ली के बाहर भी यात्रा: पी एम मोदी हिंद-अफगान दोस्ती का प्रतीक बना काबुल में विशाल ध्वज कश्मीर में अब भी 4 लाख से अधिक फंसे, जलस्तर घटा
रिचर्ड राहुल वर्मा होंगे भारत मे अमेरिका के नये राजदूत मोदी के स्वागत समारोह की मेजबानी करेंगी मिस अमेरिका भारतीय मूल के गोयल को अमेरिका में मिला प्रमुख प्रशासनिक पद भारतीय मूल के गणितज्ञ अंतरराष्ट्रीय विज्ञान परिषद के अध्यक्ष निर्वाचित एक और भारतीय का उपन्यास बुकर पुरस्कार की सूची में शामिल

Posts Tagged ‘हरिवंश राय बच्चन की कविताएँ’


मधुशाला: हरिवंश राय बच्चन

Tuesday, May 17th, 2011
मधुशाला: हरिवंश राय बच्चन   मधुशाला मृदु भावों के अंगूरों की आज बना लाया हाला,प्रियतम, अपने ही हाथों से आज पिलाऊँगा प्याला,पहले भोग लगा लूँ तेरा फिर प्रसाद जग पाएगा,सबसे पहले तेरा स्वागत करती मेरी मधुशाला।।१। प्यास तुझे तो, विश्व तपाकर पूर्ण निकालूँगा हाला,एक पाँव से साकी बनकर नाचूँगा लेकर प्याला,जीवन की मधुता ...