आरबीआई ने रेपो रेट में की कटौती भारत शांति और स्थिरता के लिए दृढ़ता के साथ प्रतिबद्धः राष्ट्रपति निर्भया पर बनी डॉक्यूमेंट्री को लेकर संसद में हंगामा पर्यावरण बचाने को तीन लाख किलोमीटर की पदयात्रा बीमा संशोधन विधेयक पर लोकसभा की मुहर
पार्टी में एकता चाहते हैं आप के वैश्विक समर्थक दक्षेस यात्रा : जयशंकर अफगान नेताओं से मिले अमेरिका में 10 भारतीय-अमेरिकी होंगे सम्मानित श्रीलंकाई नौसेना ने 86 भारतीय मछुआरों को गिरफ्तार किया किशोर सिख पर अमेरिका में नस्ली टिप्पणी

Posts Tagged ‘हरिवंश राय बच्चन की कविताएँ’


मधुशाला: हरिवंश राय बच्चन

Tuesday, May 17th, 2011
मधुशाला: हरिवंश राय बच्चन   मधुशाला मृदु भावों के अंगूरों की आज बना लाया हाला,प्रियतम, अपने ही हाथों से आज पिलाऊँगा प्याला,पहले भोग लगा लूँ तेरा फिर प्रसाद जग पाएगा,सबसे पहले तेरा स्वागत करती मेरी मधुशाला।।१। प्यास तुझे तो, विश्व तपाकर पूर्ण निकालूँगा हाला,एक पाँव से साकी बनकर नाचूँगा लेकर प्याला,जीवन की मधुता ...