रतन टाटा को ब्रिटेन की महारानी ने किया सम्मानित सहारा समूह का नया प्रस्ताव सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिज केजी बेसिन विवाद: ऑस्ट्रेलियाई मध्यस्थकार का नाम वापस भारत में अतिरिक्त निवेश की आवश्यकता: आईएमएफ पीएम बनने पर मोदी को मिलेंगे राजनयिक विशेषाधिकार: रिपोर्ट
भारतीय मूल की महिला ने किया नस्लीय भेदभाव का मुकदमा भाजपा का घोषणापत्र, टिप्पणी करने से अमेरिका का इनकार कांग्रेस के नरेंद्र मोदी विरोधी प्रस्ताव के अब 51 सह-प्रायोजक अमेरिका में प्रस्ताव पारित कर सिखों को बैसाखी की बधाई सउदी में दो साल से पड़ा है भारतीय का शव

Posts Tagged ‘हरिवंश राय बच्चन की कविताएँ’


मधुशाला: हरिवंश राय बच्चन

Tuesday, May 17th, 2011
मधुशाला: हरिवंश राय बच्चन   मधुशाला मृदु भावों के अंगूरों की आज बना लाया हाला,प्रियतम, अपने ही हाथों से आज पिलाऊँगा प्याला,पहले भोग लगा लूँ तेरा फिर प्रसाद जग पाएगा,सबसे पहले तेरा स्वागत करती मेरी मधुशाला।।१। प्यास तुझे तो, विश्व तपाकर पूर्ण निकालूँगा हाला,एक पाँव से साकी बनकर नाचूँगा लेकर प्याला,जीवन की मधुता ...