एनटीपीसी ने एक दिन में सर्वाधिक बिजली पैदा करने का रिकॉर्ड बनाया नीति आयोग ने भारतीय उर्जा सुरक्षा परिदृश्य- संवादात्‍मक उर्जा प्‍लेटफार्म शुरू किया ”विश्व हिंदी सम्मेलन ” मप्र के हर जिले में हिंदी में सूचना-पट्ट और संकेतक लगेंगे सिख विरोधी दंगे में सोनिया के खिलाफ मुकदमा खारिज मोदी ने कोईराला से बात की, शांति की अपील
अमेरिका में भारतवंशी पर इनसाइडर ट्रेडिंग का आरोप मोदी के भव्य स्वागत की तैयारी में लगे भारतीय-अमेरिकी राजेंद्र सिंह को मिलेगा अंतरराष्ट्रीय जल पुरस्कार भारतीय चिकित्सक ने बच्चे को दिया नए कानों का तोहफा निक्की हैली ने भारतवंशी को बनाया चीफ ऑफ स्टाफ

Posts Tagged ‘हरिवंश राय बच्चन की कविताएँ’


मधुशाला: हरिवंश राय बच्चन

Tuesday, May 17th, 2011
मधुशाला: हरिवंश राय बच्चन   मधुशाला मृदु भावों के अंगूरों की आज बना लाया हाला,प्रियतम, अपने ही हाथों से आज पिलाऊँगा प्याला,पहले भोग लगा लूँ तेरा फिर प्रसाद जग पाएगा,सबसे पहले तेरा स्वागत करती मेरी मधुशाला।।१। प्यास तुझे तो, विश्व तपाकर पूर्ण निकालूँगा हाला,एक पाँव से साकी बनकर नाचूँगा लेकर प्याला,जीवन की मधुता ...