हिंदी क्षेत्र में हिन्दुस्तान की बादशाहत बरकरार राष्ट्रपति ने पं.मदन मोहन मालवीय को भारत रत्न से नवाजा प्रधानमंत्री : फ्रांस, जर्मनी और कनाडा यात्रा से भारत के आर्थिक एजेंडे को मिलेगा बल इसरो ने किया आईआरएनएसएस-1 डी का सफल प्रक्षेपण सातवें आदिवासी युवा आदान-प्रदान कार्यक्रम
यमन में फंसे भारतीय नागरिकों को निकालने का काम जारी भारत ने यमन से नागरिकों की वापसी के लिए भेजा विमान भारत-अमेरिका साझेदारी एक नए रणनीतिक चरण में : रिचर्ड वर्मा आरएसएस को आतंकवादी घोषित करने का विरोध करेगा अमेरिका अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार में अमिताभ भी शामिल

Posts Tagged ‘हरिवंश राय बच्चन की कविताएँ’


मधुशाला: हरिवंश राय बच्चन

Tuesday, May 17th, 2011
मधुशाला: हरिवंश राय बच्चन   मधुशाला मृदु भावों के अंगूरों की आज बना लाया हाला,प्रियतम, अपने ही हाथों से आज पिलाऊँगा प्याला,पहले भोग लगा लूँ तेरा फिर प्रसाद जग पाएगा,सबसे पहले तेरा स्वागत करती मेरी मधुशाला।।१। प्यास तुझे तो, विश्व तपाकर पूर्ण निकालूँगा हाला,एक पाँव से साकी बनकर नाचूँगा लेकर प्याला,जीवन की मधुता ...