मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

Posts Tagged ‘हिन्दी कवि’


जिस के सिर पर हाथ तेरा हो – हर्षवर्धन आर्य

Wednesday, September 5th, 2012
जिस के सिर पर हाथ तेरा हो  - हर्षवर्धन आर्य जिस के सिर पर हाथ तेरा हो , उसकी रोज़ दीवाली है क्यों ना महके वह बगिया तू ,जिस बगिया का माली है | जिस ने दिल से तुझे पुकारा ,उससे  ना तू दूर रहा खुद को ख़ुदा बना जो फिरता , उसकी झोली खाली है | तेरी उंगली पकड़ चला हूँ  , जिस ...

अनिल जोशी के जन्म दिन 24 सितबंर पर प्रस्तुत है – प्रतिनिधि रचनाएं

Friday, September 23rd, 2011
अनिल जोशी के जन्म  दिन 24 सितबंर पर प्रस्तुत है - प्रतिनिधि रचनाएं अनिल जोशी का जन्म दिल्ली में हुआ पर ये मूलतः राजस्थान के हैं।  इन्होंने बी कॉम, दिल्ली विश्ववि्दयालय से, एम. ए. (हिन्दी), पत्रकारिता में स्नातक राजस्थान से  तथा लंदन विश्वविधालय से एम, ए.(भाषा विज्ञान) की शिक्षा ली है ।  प्रमुख प्रकाशित कृतियों - मोर्चे पर (काव्य संग्रह) नींद कहाँ हैं  (काव्य संग्रह) धरती एक ...

मीठा जल कहां रहता है – अशोक चक्रधर

Saturday, September 17th, 2011
मीठा जल कहां रहता है - अशोक चक्रधर -चौं रे चम्पू! आजकल्ल भौत लोकार्पण करत घूम रह्यौ ऐ! आनन्द आवै तोय जा काम में?-हर बार तो नहीं, कभी-कभी आता है, लेकिन इस कारण कि मैं किसी पद पर हूं, मुझे महत्व दिया जाय, ज़्यादा आनन्द नहीं आता। अच्छा सुनने को मिले तो अच्छी प्रतिक्रिया देने का मन करता ...

कविताओं के संदर्भ में अज्ञेय – इला कुमार

Saturday, September 17th, 2011
कविताओं के संदर्भ में अज्ञेय - इला कुमार सात मार्च 1911 को गोरखपुर के कुशीनगर में जन्मे हीरानंद, सच्चिदानंद वास्त्सायन ‘अज्ञेय’ की जन्मशती के अवसर पर उन्हें बार-बार साहित्य  प्रेमियों के द्वारा कई सम्मेलनों, गोष्ठियां आदि में श्रद्वापूर्वक याद किया जा रहा है। उनकी  रचनाओं के पुनर्पाठ किए गए। सच तो यह है कि इन  औपचारिक कार्यक्रमों के बीच ...

दिन के उजाले में : हर्षवर्धन आर्य

Monday, September 12th, 2011
दिन के उजाले में : हर्षवर्धन आर्य कृति- दिन के उजाले में (काव्य-संग्रह), कवि- हर्षवर्धन आर्य, विधा- कविता आज के समय में जब कोई कविता-संग्रह मुझे प्राप्त होता है तो शिल्प, भाषा, विषय को छोड़ कर ध्यान पहले कथ्य में छिपे कवि के निज अनुभवों एवं उनकी सच्चाई तथा विश्वसनीयता पर जाता है। मन अच्छी कविता से ज्यादा ...