मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

Posts Tagged ‘famous hindi poets’


कविताओं के संदर्भ में अज्ञेय – इला कुमार

Saturday, September 17th, 2011
कविताओं के संदर्भ में अज्ञेय - इला कुमार सात मार्च 1911 को गोरखपुर के कुशीनगर में जन्मे हीरानंद, सच्चिदानंद वास्त्सायन ‘अज्ञेय’ की जन्मशती के अवसर पर उन्हें बार-बार साहित्य  प्रेमियों के द्वारा कई सम्मेलनों, गोष्ठियां आदि में श्रद्वापूर्वक याद किया जा रहा है। उनकी  रचनाओं के पुनर्पाठ किए गए। सच तो यह है कि इन  औपचारिक कार्यक्रमों के बीच ...

“लेकिन लिक्खा आजादी का, इतिहास रुधिर की धार से” – गोपाल सिंह नेपाली (स्वतंत्रता दिवस पर विशेष)

Saturday, August 6th, 2011
11 अगस्त 1911 कालीबाग दरबार, नेपाली रानी महलद्ध, बेतिया, पश्चिमी चम्पारन (बिहार) में जन्मे गोपाल सिंह नेपाली का हिन्दी के गीतकारों में महत्वपूर्ण नाम है।इनकी प्रकाशित कृतियों में ‘उमंग’, ‘पंछी’, ‘रागिनी’, ‘पंचमी’, ‘नवीन’ व ‘हिमालय ने पुकारा’ महत्वपूर्ण हैं। इसके अतिरिक्त  प्रभात, दि मुरली, सुधा, रतलाम टाइम्व व योगी, साप्ताहिकद्ध ...

विश्वविख्यात नृत्यांगना गीता चंद्रन की एकल प्रस्तुति कार्यक्रम

Tuesday, January 25th, 2011
विश्वविख्यात नृत्यांगना गीता चंद्रन की एकल प्रस्तुति कार्यक्रम भरतनाट्यम की विश्वविख्यात नृत्यांगना एवं हिंदी भवन की न्यासी श्रीमति गीता चंद्रन की विद्यापति, कबीर, सूरदास तथा मीरा की रचनाओं पर आधारित एकल प्रस्तुति नृत्य-रसामृत का आयोजन शुक्रवार, 28 जनवरी, 2011 को सांय 6 बजे हिंदी भवन सभागार में किया जाएगा। कार्यक्रम कर्नाटक के पूर्व राज्यपाल एवं हिदी भवन के अध्यक्ष त्रिलोकीनाथ ...

इला कुमार की कविताएं

Saturday, January 22nd, 2011
इला कुमार की कविताएं फूल चांद और रात अब कोई नहीं लिखता कविता फूलों की सुगंध भरी रात नहाई हो निमिष भर भी चांदनी में फूलों के संग पर कोई नहीं कहता डस निबिद्ध निमिष की बात जो अब भी टिका है पवस की चम्पई भोर के किनारे चांदनी  की बात झरते हुए हरसिंगार तले ...