मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

Posts Tagged ‘hindi poets’


राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर

Sunday, September 22nd, 2013
राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर हिन्दी के प्रसिद्ध कवियों में से एक राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर का जन्म 23 सितंबर 1908 को  सिमरिया नामक स्थान पे हुआ। इनकी मृत्यु 24 अप्रैल, 1974 को चेन्नई) में हुई । जीवन परिचय : हिन्दी के सुविख्यात कवि रामाधारी सिंह दिनकर का जन्म 23 सितंबर 1908 ई. में सिमरिया, ज़िला ...

कविता : जयशंकर प्रसाद

Tuesday, January 29th, 2013
कविता : जयशंकर प्रसाद जीवन परिचय -जयशंकर प्रसाद का जन्म30 जनवरी, 1889 ई० में वाराणसी (उ० प्र०) में पिता श्री देवी प्रसाद साहू के घर में हुआ था जो एक अत्यन्त समृद्ध व्यवसायी थे। प्रारंभिक शिक्षा घर पर ही प्रारम्भ हुई . काव्य-चित्राधार, कानन कुसुम, प्रेम-पथिक, महाराणा का महत्व, झरना, करुणालय, आंसू, लहर एवं कामायनी। नाटक- सज्जन, ...

डॉ. पद्मेश गुप्त के जन्मदिन के अवसर पर बहुत – बहुत शुभकामनाएँ

Saturday, January 5th, 2013
डॉ. पद्मेश गुप्त के जन्मदिन के अवसर पर बहुत - बहुत शुभकामनाएँ   डॉ. पदमेश गुप्त ब्रिटेन में हिंदी के स्तंभ है। 6वें विश्व हिंदी सम्मेलन के संयोजक और आठवें विश्व हिंदी सम्मेलन, न्यूयार्क में विश्व हिंदी सम्मान से सम्मानित कवि, कहानीकार, संपादक  डॉ पद्मेश गुप्त का पांच जनवरी को जन्मदिवस  है।  उनके स्वस्थ व रचनात्मक जीवन और दीर्घायु के लिए प्रवासी ...

लन्दन के चेरिंग क्रास के लोग – शब्द चित्रों में – डॉ. सत्येन्द्र श्रीवास्तव

Tuesday, October 9th, 2012
लन्दन के  चेरिंग  क्रास के लोग - शब्द चित्रों में - डॉ. सत्येन्द्र श्रीवास्तव रात आधी सो रहे कुछ लोग पुल के पास साथ कुछ रंगीन चेहरे मांगते सहवास गाड़ियों और मनुष्यों की झेलकर रफ़्तार ऊंघता लन्दन शहर का व्यस्त चेरिंग क्रास . यहाँ से जो कुछ गया झकझोर कर ही गया बढ़ आई और जल पथ मोड़ कर ही गया नित नए अनुभव मगर क्षण -क्षण पुराने हुए और जो बच सका कुछ निचोड़ कर ही गया . महावृक्ष खड़ा रहा धुप ...

मंथन – हर्षवर्धन आर्य

Wednesday, August 8th, 2012
मंथन - हर्षवर्धन आर्य मानता हूँ राजनीति कोई बीमारी नहीं है इसकी कीचड़ साफ करना भी कोई भारी नहीं है हो अदद इक होंसला मन में अगर ईमान का घूसखोरी ,भ्रष्टाचारी  ढोना लाचारी नहीं है बाड़ ही जब खेत की खाने लगेगी खेत तो फिर वहां पर भी कोई फूली फली क्यारी नहीं है कोसते हो,झीकते  हो देश को, सरकार ...

हमें नस्लवादिता से ऊपर उठना होगा – डॉ. सत्येन्द्र श्रीवास्तव

Monday, October 10th, 2011
हमें नस्लवादिता से ऊपर उठना होगा - डॉ. सत्येन्द्र श्रीवास्तव लंदन में रह रहे कैम्ब्रिज विश्वविधालय के हिंदी प्रोफेसर, कवि डॉ. सत्येन्द्र श्रीवास्तव के साथ श्री अनिल शर्मा  ‘जोशी’ ने पिछले दिनों एक अंतरंग बातचीत की। यहां प्रस्तुत है उस बातचीत के कुछ प्रमुख अंश....अनिल शर्मा ‘जोशी’- डॉ. साहब आपके साहित्य में एक तरफ तो भारत के प्रति असीम लगाव ...

अनिल जोशी के जन्म दिन 24 सितबंर पर प्रस्तुत है – प्रतिनिधि रचनाएं

Friday, September 23rd, 2011
अनिल जोशी के जन्म  दिन 24 सितबंर पर प्रस्तुत है - प्रतिनिधि रचनाएं अनिल जोशी का जन्म दिल्ली में हुआ पर ये मूलतः राजस्थान के हैं।  इन्होंने बी कॉम, दिल्ली विश्ववि्दयालय से, एम. ए. (हिन्दी), पत्रकारिता में स्नातक राजस्थान से  तथा लंदन विश्वविधालय से एम, ए.(भाषा विज्ञान) की शिक्षा ली है ।  प्रमुख प्रकाशित कृतियों - मोर्चे पर (काव्य संग्रह) नींद कहाँ हैं  (काव्य संग्रह) धरती एक ...

हर मौसम के लिए विवेक मिश्र की कविताएं

Wednesday, September 21st, 2011
हर मौसम के लिए विवेक मिश्र की कविताएं 15 अगस्त, 1970 को झाँसी शहर में जन्मे, श्री विवेक मिश्र अपने समय के ऐसे युवा रचनाकार हैं, जिन्होंने कविता, कहानी, लेख एवं वृत्तचित्र लेखन तथा अनुवाद तक को एक साथ साधा है। उन्होंने इन सभी विधाओं में सफ़ल कृतियाँ साहित्य को दी हैं। फिर भी यह कहना होगा कि ...

मीठा जल कहां रहता है – अशोक चक्रधर

Saturday, September 17th, 2011
मीठा जल कहां रहता है - अशोक चक्रधर -चौं रे चम्पू! आजकल्ल भौत लोकार्पण करत घूम रह्यौ ऐ! आनन्द आवै तोय जा काम में?-हर बार तो नहीं, कभी-कभी आता है, लेकिन इस कारण कि मैं किसी पद पर हूं, मुझे महत्व दिया जाय, ज़्यादा आनन्द नहीं आता। अच्छा सुनने को मिले तो अच्छी प्रतिक्रिया देने का मन करता ...

कविताओं के संदर्भ में अज्ञेय – इला कुमार

Saturday, September 17th, 2011
कविताओं के संदर्भ में अज्ञेय - इला कुमार सात मार्च 1911 को गोरखपुर के कुशीनगर में जन्मे हीरानंद, सच्चिदानंद वास्त्सायन ‘अज्ञेय’ की जन्मशती के अवसर पर उन्हें बार-बार साहित्य  प्रेमियों के द्वारा कई सम्मेलनों, गोष्ठियां आदि में श्रद्वापूर्वक याद किया जा रहा है। उनकी  रचनाओं के पुनर्पाठ किए गए। सच तो यह है कि इन  औपचारिक कार्यक्रमों के बीच ...
Page 1 of 612345...Last »