चीनी राष्ट्रपति की पत्नी सीख रही हैं योग 200 आतंकी नियंत्रण रेखा पार करने के इंतजार में: सेना मुसलमानों पर मोदी के बयान पर कांग्रेस ने उठाए सवाल काशी की बुनकरी चमकाने में निफ्ट की गांठ भारत और चीन ने किए 12 समझौते , पांच साल में 20 अरब डॉलर का चीनी निवेश
रिचर्ड राहुल वर्मा होंगे भारत मे अमेरिका के नये राजदूत मोदी के स्वागत समारोह की मेजबानी करेंगी मिस अमेरिका भारतीय मूल के गोयल को अमेरिका में मिला प्रमुख प्रशासनिक पद भारतीय मूल के गणितज्ञ अंतरराष्ट्रीय विज्ञान परिषद के अध्यक्ष निर्वाचित एक और भारतीय का उपन्यास बुकर पुरस्कार की सूची में शामिल

Posts Tagged ‘Rabindranath tagore biography in hindi’


रबीन्द्रनाथ टैगोर :विश्वविख्यात कवि और साहित्यकार

Tuesday, May 7th, 2013
रबीन्द्रनाथ टैगोर :विश्वविख्यात कवि और साहित्यकार रबीन्द्रनाथ टैगोर का  जन्म  (7 मई, 1861 – 7 अगस्त, 1941) को गुरुदेव के नाम से भी जाना जाता है। वे विश्वविख्यात कवि, साहित्यकार, दार्शनिक और भारतीय साहित्य के एकमात्र नोबल पुरस्कार विजेता हैं। बांग्ला साहित्य के माध्यम से भारतीय सांस्कृतिक चेतना में नयी जान फूँकने वाले युगद्रष्टा थे। वे एशिया ...

रबीन्द्रनाथ टैगोर

Tuesday, May 7th, 2013
रबीन्द्रनाथ टैगोर  रबीन्द्रनाथ ठाकुर, गुरुदेव बीन्द्रनाथ ठाकुर (जन्म- 7 मई, 1861, कलकत्ता, पश्चिम बंगाल; मृत्यु- 7 अगस्त, 1941, कलकत्ता) एक बांग्ला कवि, कहानीकार, गीतकार, संगीतकार, नाटककार, निबंधकार और चित्रकार थे। भारतीय संस्कृति के सर्वश्रेष्ठ रूप से पश्चिमी देशों का परिचय और पश्चिमी देशों की संस्कृति से भारत का परिचय कराने में टैगोर की ...

रबिन्द्रनाथ टैगोर का साहित्यिक सफ़र

Thursday, June 30th, 2011
रबिन्द्रनाथ टैगोर का साहित्यिक सफ़र ‘प्रसन्‍न रहना तो बहुत सहज है, परन्‍तु सहज रहना बहुत कठि‍न’ – रवीन्‍द्रनाथ टैगोर * रवीन्‍द्रनाथ टैगोर (1861 – 1941) ब्रह्म समाज के नेता देबेन्‍द्रनाथ टैगोर के सबसे छोटे पुत्र थे. वे कलकत्‍ता के एक धनी व प्रसि‍द्ध परि‍वार में पैदा हुए थे. उनके दादा ने एक वि‍शाल वि‍त्‍तीय साम्राज्‍य ...

विश्वकवि रवींद्रनाथ टैगोर

Thursday, May 19th, 2011
विश्वकवि रवींद्रनाथ टैगोर नोबेल पुरस्कार प्राप्त कवि रवीन्द्रनाथ टैगोर ने साहित्य, शिक्षा, संगीत, कला, रंगमंच और शिक्षा के क्षेत्र में अपनी अनूठी प्रतिभा का परिचय दिया। अपने मानवतावादी दृष्टिकोण के कारण वह सही मायनों में विश्वकवि थे। टैगोर दुनिया के संभवत: एकमात्र ऐसे कवि हैं जिनकी रचनाओं को दो देशों ने अपना राष्ट्रगान ...