मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

शहादत पर सियासत कर रही सरकार : भाजपा


UP CMलखनऊ,जुलाई २ | भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की उत्तर प्रदेश ईकाई ने सूबे में सरकारी कर्मचारियों की मौत के बाद दिए जाने वाले मुआवजे को लेकर सियासत करने का आरोप लगाया है। भाजपा ने कहा कि सरकार पहले धर्म और जाति के आधार पर भेदभाव कर रही थी अब शहीदों के साथ भी भेदभाव कर रही है। पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि शहीदों को लेकर राज्य में एक समान नीति होनी चाहिए। पुलिस उपाधीक्षक जियाउल हक की शहादत पर सरकार ने 50 लाख रुपये का मुआवजा दिया वहीं दूसरी ओर इलाहाबाद में थानाध्यक्ष आर.पी. द्विवेदी के शहीद होने के एक सप्ताह बाद भी अभी तक इस मामले में कोई पहल नहीं कर पायी है।

पाठक ने कहा कि जियाउलहक की मौत के बाद मुख्यमंत्री स्वयं उनके घर गए लेकिन द्विवेदी के मरने के बाद वह स्वयं तो क्या उनकी सरकार के किसी मंत्री या आला अधिकारी परिजनों से मिलने तक नहीं गए। उन्होंने कहा कि शहीद हेमराज के परिजनों से मिलने तब गए जब मीडिया में सवाल खड़े होने लगे। सरकार बताए कि वह किस नीति के तहत शहीदों के बीच भी फर्क कर रही है या फिर वह मौत के बाद मिलने वाले मुआवजे को लेकर भी सियासत कर रही है। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि अखिलेश सरकार मौतों पर भी सियासत कर रही है और शवों पर भी जाति और मजहब का टैग लगा रही है। पाठक ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मांग करते हुए कहा कि सहारनपुर में शहीद हुए सीओ के गनर तथा इलाहाबाद में मारे गए आर पी द्विवेदी के परिजनों को सरकार 50 लाख की मुआवजा राशि तत्काल उपलब्ध कराए।

हिन्दी में राष्ट्रीय - अंतरराष्ट्रीय समाचार, लेख, भाषा - साहित्य एवं प्रवासी दुनिया से नि:शुल्क जुड़ाव के लिए
अपना ईमेल यहाँ भरें :

Leave a Reply