मोल्डिंग सिस्टम — अलका सिन्हा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ नीति आयोग की पहली बैठक 6 फरवरी भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण व्यक्ति पूजा को अनुचित नहीं मानता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
दिव्या माथुर की कहानी : अंतिम तीन दिन अमेरिकी कोर्ट ने सोनिया गांधी से पासपोर्ट दिखाने को कहा अमेरिकी न्यायाधीश ने 1984 के दंगों पर आदेश सुरक्षित रखा यमन में डूबा जहाज, 12 भारतीय नाविक हुए लापता पंजाबी गायक शिंदा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

डॉ. जे़बा रशीद की कविताएँ


dr zeba rasheed

जवाब

मैंने खत भेजा तो 

जवाब में
सूखा गुलाब आया है
हमने आंखों में
सजा लिए आंसूं
खूब जवाब आया है
सकूने दिल की दवा
मांगी तो
दर्द बेहिसाब आया है।
ख्वाहिशें मुस्करा कर
कहती है
खाली ख्वाब आया है।
*****
2
चाहते
जे़बा रषीद

चाहतों ने मेरी
जिसको तराशा
वो पारस हो
यह जरूरी तो नहीं!

ख्वाब मेरे हैं
मगर ध्यान तेरा है
मेरी आंखों में
तेरी तस्वीर ना हो
यह जरूरी तो नहीं!

चाहत के बहाने
हजारों है
उसके रास्ते में
मेरा घर हो
यह जरूरी तो नहीं!

यूं तो दुश्मन है
सारा जमाना मेरा
मेरे हाथों में भी
खंजर हो
यह जरूरी तो नहीं!

बाहर जीत कर
आनेवाला घर में
खुद से जीत जाए
यह जरूरी तो नहीं!
*****
3
सच्चाईयां
जे़बा रषीद

कल्पना की दुनिया में
किसी की हकूमत नहीं चलती

गलतियों पर पर्दा डालने से
सफलता नहीं मिलती

समय पर काम नहीं किया तो
मंजिल नहीं मिलती

तकदीर के सामने कोई
तदबीर नहीं चलती

तल्ख रिश्तों की दरारों में
मोहब्बत नहीं मिलती

जाहिल के सामने अक्लमन्द की
दलील नहीं चलती

बनावट की दुनिया में कभी
सच्चाई नहीं मिलती

झूठ का सहारा लिया तो
रिश्तों की मीठास नहीं मिलती

मौत के सामने किसी की
हिकमत नहीं चलती

*****
4
बदलता मौसम
ज़ेबा रषीद
बदलते समय की
हलचल में अब
खोखली हुई मुस्कानें
दिल से प्यार का
जज्बा गुम है

बेवफाई का मौसम है
अब मतलब के
बाजार में
तेरा-मेरा रिश्ता गुम है.

हर दिल में लालच है
दौलत चाहे
कितनी मिल जाए
आदमी का दिल
ख्वाहिशों का जंगल है.

समय की ठोकर खाकर
सुनहरे सपने गुम है
अगर कुछ टूटे अपना
दुःख होता है
आंखों में कब आंसू रूकता
ये मुसाफिर बड़ा चंचल है

हर दिल में
अजीब सी हलचल
बदलते समय की
हलचल में अब
खोखली हुई मुस्कानें
दिल से प्यार का
रिश्ता गुम है।

*****

drzebarasheed786@rediffmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय - अंतरराष्ट्रीय समाचार, लेख, भाषा - साहित्य एवं प्रवासी दुनिया से नि:शुल्क जुड़ाव के लिए
अपना ईमेल यहाँ भरें :

One Comment

  • अशोक आंद्रे says:

    डॉ जेबा जी की हर रचना मन को गहरे छूती हैं.बधाई

Leave a Reply to अशोक आंद्रे